Hempushpa Syrup uses in Hindi – हेमपुष्पा के फायदे, नुकसान, इत्यादि

दोस्तों आज का यह लेख विशेष रूप से महिलाओं के लिए है जिसमें हम Hempushpa Syrup के बारे में बात करेंगे। यदि पुरुष इस लेख को पढ़ रहे हैं तो शायद यह उनके लिए उतना मददगार न हो।

जैसा कि हम सभी जानते हैं कि पुरुषों की तुलना में महिलाओं को कई अधिक शारीरिक और मानसिक समस्यायों का सामना करना पड़ता है। उनमें अक्सर माहवारी (Periods), कमजोरी, थकान, इत्यादि जैसी समस्याएं देखी जाती हैं। इन्हीं समस्याओं के इलाज के लिए हेमपुष्पा टॉनिक महिलाओं के लिए अमृत है।

शायद आप में से कई लोगों ने कभी न कभी हेमपुष्पा सिरप के बारे में सुना होगा। Hempushpa syrup एक आयुर्वेदिक टॉनिक है जिसे प्राकृतिक औषधियों की मदद से तैयार किया जाता है। इसका उपयोग महिलाओं के शरीर में होने वाली विभिन्न समस्याओं के उपचार में किया जाता है। यह टॉनिक रक्त शोधन, हार्मोनल असंतुलन (Harmonal imbalance) से लेकर सभी प्रकार के शारीरिक और मानसिक विकारों को ठीक करने में फायदेमंद होता है। इतना ही नहीं, जो महिलाएं किसी भी तरह की समस्या से पीड़ित नहीं हैं लेकिन शारीरिक रूप से कमजोर, कम वजन या पतली हैं, वे भी इस सिरप का इस्तेमाल कर सकती हैं।

तो आइए इस लेख के माध्यम से Hempushpa Syrup के बारे में विस्तार से जानते हैं ताकि आप इसके लाभ, दुष्प्रभाव, खुराक और अन्य जानकारी को अच्छी तरह से समझ सकें।

Table of Contents hide

हेमपुष्पा सिरप की सामग्री – Hempushpa Syrup active ingredients

हेमपुष्पा में कुल 15 घटक हैं जिनमें मुख्य रूप से 10 घटक शामिल हैं। जिनमें शामिल हैं:

  • अनंतमूल – यह जड़ी बूटी महिलाओं के लिए अत्यंत फायदेमंद है। यह लाल रक्त कोशिकाओं को बढ़ाने में मदद करता है, त्वचा की सुंदरता निखारता है, हाई ब्लड शुगर को कम करता है, पाचन स्वस्थ्य बढ़ाता है और यौन स्वस्थ्य में सुधार करता है।
  • लोध्रा – लोध्रा में रोगाणुरोधी (antimicrobial) और सूजनरोधी (anti-inflammatory) गुण होते हैं। यह महिलाओं की योनि से निकलने वाले सफेद पानी को रोकने में मदद करता है जो योनि में संक्रमण के कारण होता है।
  • अश्वगंधा – अश्वगंधा महिलाओं के लिए एक चमत्कारी जड़ी बूटी है। यह महिलाओं में रोग प्रतिरोधक शक्ति को बढ़ाने में मदद करता है। इसके साथ ही यह यौन क्रिया में सुधार करता है और चिंता और तनाव को दूर करता है।
  • मंजिष्ठा – महिलाओं में होने वाली सभी प्रकार की हार्मोनल समस्याओं जैसे अनियमित पीरियड्स, पीरियड्स के दौरान दर्द, मुंहासे, थकान, नींद न आना आदि में मंजिष्ठा बहुत कारगर है।
  • गोखरू – यह महिलाओं के स्वस्थ्य के लिए काफी लाभदायक होता है। यह महिलाओं में यौन इच्छा को बढ़ाने में मदद करता है और मूत्र संबंधी समस्याओं को ठीक करने में भी मदद करता है।
  • पुनर्नवा –  इसमें ऐसे तत्व होते हैं जो माशपेशियों की ऐंठन और दर्द से राहत देते हैं। यह मूत्र विकारों के रोकथाम के लिए भी इस्तेमाल होता है।
  • गंभारी – इस औषधि का इस्तेमाल बुखार को कम करने के लिए किया जाता है। यह भुखार के कारण बढे हुए शरीर के तापमान को कम करने में मदद करता है। इसके साथ ही यह शरीर में कमजोरी को भी दूर करने में मदद करता है।
  • शतावरी – यह तनाव और अवसाद से पीड़ित महिलाओं के लिए बेहद फायदेमंद है। यह महिलाओं की प्रजनन (fertility) क्षमता को मजबूत करता है और प्रजनन अंगों (Reproductive organs) का पोषण भी करता है।
  • शंखपुष्पी – यह अपच, कब्ज, गैस्ट्रिक अल्सर जैसी पेट की समस्याओं में फायदेमंद होता है। इसे मानसिक स्वास्थ्य को बेहतर करने के लिए भी इस्तेमाल किया जाता है।
  • दारुहल्दी – महिलाओं में इसका उपयोग मुख्य रूप से  गर्भाशय (uterine) के संक्रमण को ठीक करने के लिए किया जाता है। लेकिन इसके साथ ही यह लिवर को भी सवस्थ रखने में मदद करता है और संक्रमण से बचाता है।

हेमपुष्पा सिरप के उपयोग – Hempushpa Syrup uses in Hindi

हेमपुष्पा सिरप महिलाओं के लिए एक चमत्कारी दवा है। इसे महिलाओं में शारीरिक और मानसिक समस्याओं के इलाज के लिए इस्तेमाल किया जाता है। इसके फायदों की लिस्ट बहुत लंबी है। तो आइए जानते हैं हेमपुष्पा सिरप के कुछ फायदों के बारे में।

हार्मोन असंतुलन को ठीक करता है

hormonal imbalance

हर महिला अक्सर अपने जीवनकाल में कभी न कभी हार्मोनल असंतुलन का अनुभव करती हैं।  हार्मोनल असंतुलन के कारण महिलाओं को चिंता, तनाव, थकान, वजन बढ़ना या कम होना, पाचन संबंधी समस्याएं आदि कई समस्याओं का सामना करना पड़ता है। यह वक्त महिलाओं के लिए सबसे कठिन होता है।

लेकिन हार्मोनल असंतुलन का कारण क्या है? आइए जानते हैं किन किन मुख्य कारणों से हार्मोनल असंतुलन होता है:

  • ख़राब खानपान
  • अधिक तनाव में रहना
  • मधुमेह
  • दवाएं
  • थायराइड की  समस्याएं

हेमपुष्पा का इस्तेमाल करने से हार्मोनल असंतुलन की समस्या से छुटकारा पाया जा सकता है। हेमपुष्पा हार्मोन्स को संतुलित बनाये रखता है और हार्मोनल असंतुलन से होने वाली विभिन्न समस्याओं को दूर करने में मदद करता है।

मूत्र संबंधी समस्याओं को ठीक करता है

urinary problems

पुरुषों की तुलना में महिलाओं में मूत्र संबंधी समस्याएं अधिक होती हैं। जिनमें सबसे आम यूरिनरी ट्रैक्ट इन्फेक्शन होता है, जिसके कारण पेशाब में जलन, दर्द, गहरे रंग का पेशाब, सामान्य से अधिक बार पेशाब आना आदि जैसी समस्याएं होती हैं।

हेमपुष्पा मूत्र से संबंधित सभी समस्याओं के लिए लाभदायक है। यह यूरीनरी ट्रैक्ट के संक्रमण को ठीक करता है और इसके कारण होने वाले लक्षणों से राहत देता है।

यह भी पढ़ें: Neeri Syrup Uses in Hindi – फायदे, नुक्सान, खुराक, इत्यादि

वजन बढ़ाता है

Increase weight

कुछ महिलाएं दुबली पतली होती हैं। उन महिलाओं को वजन बढ़ाने में बेहद कठिनाई होती है। वो महिलाएं कई तरह से वजन बढ़ाने की कोशिश करती हैं लेकिन फिर भी उनका वजन नहीं बढ़ता। ऐसे में हेमपुष्पा का इस्तेमाल करना आपके लिए जीवन बदलने वाला कदम हो सकता है।

हेमपुष्पा सिरप का नियमित उपयोग आपकी ऊंचाई के अनुसार वजन बढ़ाने में आपकी मदद कर सकता है।इसमें मौजूद औषधीय गुण आपके शरीर को सभी जरूरी पोषण प्रदान करते हैं, जिससे आपको वजन बढ़ाने में मदद मिलती है।

गैस्ट्रिक समस्या

Gastric issue

ख़राब खानपान के चलते पेट में गैस बनने की समस्या आम होती है। कभी-कभी होने वाली गैस आसानी से ठीक हो जाती है, लेकिन कुछ महिलाओं को पेट में गैस बनने की समस्या लंबे समय तक रहती है।

ऐसा माना जाता है कि हेमपुष्पा सिरप गैस और आंतों के रोगों के इलाज में बहुत फायदेमंद होता है।

मासिक धर्म को नियमित करता है

menstrual Periods

मासिक धर्म अथवा पीरियड्स हर महिला को होता है और यह उनके जीवन का एक हिस्सा है। उन्हें पीरियड्स के दौरान दर्द और बहुत ज्यादा ब्लीडिंग होती है। इन सभी समस्याओं को मासिक धर्म अथवा menstrual Periods कहा जाता है।

मासिक धर्म आमतौर पर हर 4-5 सप्ताह में एक बार होता है लेकिन बहुत सारी महिलाओं में यह पीरियड्स अनियमित होते हैं।ऐसे में हेमपुष्पा सिरप के इस्तेमाल से अनियमित मासिक धर्म को रोका जा सकता है।

गर्भवती महिलाओं के स्वास्थ्य के लिए

pregnancy

गर्भावस्था के दौरान महिलाओं को कई तरह की समस्याओं का सामना करना पड़ता है जैसे कमजोरी, सिर दर्द, पीठ दर्द, चिढ़चिढ़ापन, कब्ज़, अपच, आदि।

गर्भावस्था में हेमपुष्पा का इस्तेमाल करना पूरी तरह सुरक्षित होता है। गर्भावस्था के दौरान हर दिन हेमपुष्पा का उपयोग करने से गर्भावस्था से जुड़ी सभी समस्याओं को दूर किया जा सकता है।

अन्य लाभ – Other Hempushpa syrup Benefits in Hindi

  • पेट में ऐंठन दूर करता है
  • रक्त की शुद्धि करता है
  • शरीर में पोषक तत्वों की कमी पूरी करता है
  • तनाव और डिप्रेशन से छुटकारा दिलाता है
  • मेनोपॉज (रजोनिवृत्ति) में रहत देता है

हेमपुष्पा सिरप के दुष्प्रभाव – Hempushpa syrup side effects in Hindi

हेमपुष्पा एक आयुर्वेदिक टॉनिक है और इसे इस्तेमाल करना पूरी तरह से सुरक्षित है। हालांकि, अगर आपको इस सिरप में इस्तेमाल की गई किसी भी सामग्री से एलर्जी है तो आपको इसका इस्तेमाल नहीं करना चाहिए।

हेमपुष्पा की खुराक – Hempushpa Syrup Dosage in Hindi

  • इस सिरप को एक दिन में कुल 14 मिलीलीटर ही लेना है।
  • इसको 7-7 मिलीलीटर दिन में दो बार लेना है
  • इसकी पहली खुराक सुबह नाश्ते के बाद और दूसरी खुराक रात को सोने से पहले लेनी है
  • इस सिरप को खाली पेट लेने की सलाह नहीं दी जाती। ध्यान रहे की आप इसकी खुराक लेने से पहले कुछ खा लें।

सुरक्षा जानकारी – Hempushpa syrup safety Information

इस सिरप को खराब होने से बचाने और इसका सही इस्तेमाल करने के लिए निम्नलिखित बातों पर ध्यान दें:

  • इसे ठंडी, सूखी और अँधेरी जगह में रखें
  • धूप से बचाकर रखें
  • उपयोग करने से पहले लेबल को ध्यान से पढ़ें
  • लेबल पर निर्धारित या चिकित्सक द्वारा निर्धारित खुराक से अधिक न लें।
  • बच्चों की पहुंच से दूर रखें

हेमपुष्पा को उपयोग करने के साथ-साथ अन्य सुझाव – Quick Tips

अकेले दवा का उपयोग करने से यह स्थायी रूप से काम नहीं करेगा। इसके साथ-साथ आपको अपनी जीवनशैली में भी बदलाव लाने होंगे जैसे:

  • सुबह जल्दी उठकर ताजी हवा में टहलने जाएं
  • रोजाना योगासन और प्राणायाम करें
  • रोज़ाना पेल्विक फ्लोर एक्सरसाइज (pelvic floor exercises) करें
  • अच्छा आहार खाएं
  •  रोजाना गाजर और चुकंदर का जूस लें

अगर आप इन सभी टिप्स को दवा के साथ-साथ अपनाते हैं तो आपको अपनी सभी समस्याओं में काफी मदद मिलेगी।

हेमपुष्पा सिरप की कीमत – Hempushpa Syrup price in India In Hindi

हेमपुष्पा सिरप को आप किसी भी आयुर्वेदिक या ऑनलाइन स्टोर से खरीद सकते हैं। अमेज़न की वेबसाइट में इसके 170 ml के सिरप की कीमत 228 रूपए है जबकि इसके 454 ml की कीमत 550 रूपए है। इनको खरीदने पर इनके साथ हेम-टैब भी मुफ्त मिलती है।

इसे घर से ऑर्डर करने के लिए नीचे दिए गए बटन पर क्लिक करके ऑर्डर करें।

Rajvaidya shital prasad & sons Hempushpa सिरप, 170 ml अभी_खरीदें
Rajvaidya shital prasad & sons Hempushpa सिरप, 454 ml अभी_खरीदें

हेमपुष्पा सिरप के बारे में पूछे जाने वाले सवाल – Hempushpa Syrup FAQs

नहीं, हेमपुष्पा सिरप तुरंत असर नहीं दिखता। क्योंकि यह प्राकृतिक जड़ी-बूटियों से बना है तो इसको आपके शरीर में असर दिखाने के लिए समय लग सकता है।

नहीं, यह सिरप 18 साल से कम उम्र के बच्चों के लिए नहीं है।

हाँ, हेमपुष्पा पॉलीसिस्टिक ओवरी सिंड्रोम (पीसीओएस) के लिए उपयोगी हो सकती है लेकिन PCOS के लिए इसको इस्तेमाल करने से पहले डॉक्टर से परामर्श करना चाहिए।

नहीं, हेमपुष्पा को इस्तेमाल करने से इसकी लत नहीं लगती।

Herb Home Cure
Herb Home Cure
Articles: 39

Leave a Reply

Your email address will not be published.